Stay Connected:


UPAJVARDHAK

Product Description:

UPAJVARDHAK is a humified organic substance, the single most productive input in sustainable agriculture which provides nutrition to soil and soil microbes,  formulated with Seaweed kelp extract flakes derived from algae/ luminaria /Sagassum and Ascophylum nodosum which contain inherent nutrients, broad spectrum trace elements, plant growth hormones i.e. cytokinins, auxins, gibberellins, alginic acid, mannitol and highest mineral content of any help that is an organic catalyst for overall crop nutrition, soil rejuvenation, humus build-up and qualitative productivity enhancement. Upajvardhak is available in powder form. It is an Approved Organic Agriculture Input” certified by AOCA as per NPOP (National Programme for Organic Production) standards and IFOAM (International Federation of Organic Agriculture Movement) accredited Biocert Organic Standards.

Crops:

Suitable for all types of soil and crops, Pulses, Oilseeds, Horticulture, Floriculture, Vegetable crops, Tuberous crops like potato, Sugarcane, Fibre crops, Plantation crops, Medicinal and Aromatic crops.

Method of Application:

Dosage: 2-3 kg Upajvardhak per acre in multiple doses.

UPAJVARDHAK may be applied by scattering, fertigation, seed coating, foliar spray, drip or flood irrigation, mixing with other inputs/fertilizers.

PRODUCT CATALOGUE

UPAJVARDHAK

Need Help?

Please Feel Free To Contact Us. We Will Get Back To You With 1-2 Business Days.

info@upajvardhak.com
+91-9616 162636

Seed Soaking/Seed Coating:

10 gm Upajvardhak per kg seed coating/seed soaking.
Dilute in water and soak the seed in the solution and sow after drying the seed in covered area.

While Sowing :

1 kg of Upajvardhak mixed in soil/sand or fertilizers/organic inputs/vermi compost may be applied in one acre.

For Spray:

1 to 2 gm per liter water solution @ 300 gm/Acre at 10-12 days interval.

Flood Irrigation (Fertigation):

500 -1000 gm of Upajvardhak with flood irrigation/fertigation. In first, second and third irrigation.

Upajvardhak Comparative Effect:

Advantages :

  • This is an approved organic input in crystaline powder form for all types of crops and soil for overall crop health and nutrition. Promotes seed germination and primary root development.
  • Upajvardhak works as an organic catalyst. It Increases quantity and quality of yield by improving chlorophyll content in leaves & speeding up the photosynthesis, increasing the metabolic function of plants and by providing balanced organic nutrition to crops.
  • Provides balanced nutrition, enzymes, harmons, minerals and other micronutrients to plants. improves beneficial bacteria count in soil and re-establishes soil’s natural fertility by re-activating soil microbial organisms.
  • Promotes earthworm multiplication/propagation and functioning. Promotes beneficial bacteria multiplication in soil. Upajvardhak is the best food for soil microbes.
  • Improves oxidation in soil. Improves soil humus and soil structure. Improves organic contents in soil and stimulates cation exchange capacity (CEC) in soil. Develops adverse condition tolerance capacity in crops
  • Helps in optimizing vegetative growth in the initial phases of crop growth and root development and improves nutrition uptake by roots.
  • Improves water retention capacity of soil, humus build up in soil, makes soil loose, friable, soft, moist and fertile. promotes better tillering, aggregation, flocculation, root growth & nutrient uptake and ensures availability of nutrients to plant roots and efficient utilization of fertilizers.
  • Improves effects of other cropcare products and fertilizers when applied with Upajvardhak coating.
  • Multiplies organic crop yield to double in 3-5 years of regular use.
  • Provides resistance to plants against drought/cold conditions and develops adverse condition tolerance capacity in crops. Makes crops healthy, insect and pest resistant.
  • Improves soil structure and carbon contents in soil, . Promotes soil microbes.
  • Helps plant in cell division, internode elongation, and seed development.
  • Controls water and soil pollution by controlling fertilizer leaching. Stablises nitrogen and and improves nitrozen efficiency. Prevents nitrogen leaching. Contains soil pollution and toxicity caused by chemical fertilizer residues.
  • Regulates soil pH, releases phosphorous from lock- ups for utilization by plant roots, improves soil condition and soil structure.
  • Activates soil microbes, especially rhizosphere bacteria- responsible for the better growth of root system and solublising nutrients for plants uptake.
  • Improves and rejuvenates crops affected from pesticide herbicide weedicide and insecticide usage. Recovers crops from ill effects of toxic cropcare product’s.
  • Improves flowering and fruit set and prevents flower and fruit drop. Improves quality and quantity of farm produce, fruit size, colour, taste, and nutritional value of yield.
  • Upajvardhak is non-toxic and free from artificial chemicals. Reduces chemical fertilizer and toxic crop care products requirement.

UPAJVARDHAK FUNCTIONS AT EIGHT KEY STAGES OF PLANT GROWTH

 

  • Nursery period: Avoid damping off and other disease in this period. keep uniform strong seedlings.
  • After transplanting: Recover fast, no dead seedlings, avoid soil-borne diseases.
  • Vegetative period: Thick strong stems, thick leaves, balanced vigor, disease resistance.
  • Flowering period: Early flowering, good bud differentiation, big and bright flowers, high flowering ratio, less flower drop.
  • Fruit setting period: High flower to fruit set ratio, and prevention from malformed fruits.
  • Expanding period: Fast expanding, uniform fruit size, high organic content, uniform maturity.
  • Color transfer period: Uniform and bright color, good taste and nutritional value, prevent sunburn and abnormal fruit.
  • Harvest period: High yield and sugar content, big single size, late aging, longer storage time.

 

Which problems can be solved by Upajvardhak™?

 

Problem:

Decrease in yield, Unhealthy crops, Imbalanced crop natural hormones: uneven plant vigor, fewer flowers, malformed fruits.

Humic and Fulvic acids contained in Upajvardhak can enhance crop endogenous hormone, regulate crop intelligently, greatly affect the morphology and yield physiology of crop, and then induce the precious nutrient to effective parts to regulate plant growth, and ensure healthy and strong plant, more branches, and more uniform fruits.

Basic function: root generation, flowering promotion, fruits retention, more uniform fruits.

उपजवर्धक™

उपजवर्धक फसल पोषण, उत्पादकता में वृद्धि, मिट्टी के ह्यूमस स्तर व मृदा विन्यास में सुधार तथा कायाकल्प के लिए एक प्राकृतिक कार्बनिक उत्पाद है। मिट्टी का ह्यूमस स्तर और उर्वरता सुधारने, कृषि उपज की मात्रा व गुणवत्ता में वृद्धि एवं जैविक उपज प्राप्त करने के लिए यह प्रभावी ऑर्गेनिक उत्पाद है। उपजवर्धक सरलता से घुलनशील होने के कारण उर्वरकों के साथ एक सफल सलंयक है, जो यूरिया (नाइट्रोजन) व अन्य पोषक तत्वों को स्थिर करने के लिए महत्वपूर्ण है।

फसलों में उपयोगिताः सभी प्रकार की मिट्टी व फसलों जैसे दलहन, तिलहन, अनाज, बागवानी, फलों, फूलों, सब्जियों की फसलों, आलू, गन्ना, कपास, मेन्था एवं अन्य नगदी फसलों, तथा औषधीय एवं सुगंधित फसलों में प्रयोग के लिये उपयुक्त है।

प्रयोगविधि एवं मात्राः

उर्वरक या खाद के साथ, बीजोपचार, छिड़काव, ड्रिप या सिंचाई के बहते पानी में मिलाकर, अन्य उर्वरकों/खाद/जैविक खाद के साथ मिलाकर प्रयोग किया जा सकता है।

स्प्रे के लियेः 1 से 2 ग्राम उपजवर्धक प्रति लीटर पानी मे घोल बनाकर 300 ग्राम/ प्रति एकड़ की दर से 10 से 12 दिनो के अंतराल पर छिड़काव।

सिंचाई के साथः 500 से 1000 ग्राम उपजवर्धक सिंचाई के बहते पानी के साथ (फर्टिगेशन) पहली, दूसरी और तीसरी सिंचाई में।

छिटकाव द्वाराः 1 किलोग्राम उपजवर्धक प्रति एकड़ की दर से, मिट्टी या रेत, उर्वरक/जैविक खाद या वर्मी कंपोस्ट में मिलाकर बुवाई के समय छिटकाव।

बीज उपचार/सीड कोटिंगः 5 से 10 ग्राम उपजवर्धक प्रति किलो बीज की दर से बीज पर कोटिंग करके बुवाई के समय।

उपजवर्धक के प्रयोग से लाभः

1. उपजवर्धक मिट्टी में ह्यूमस स्तर को नियमित करता है। 2. उपजवर्धक बीज अंकुरण और जड़ विकास में सहायता करता है। 3. उपजवर्धक फसल विकास और जड़ विकास के प्रारंभिक चरणों में पादप विकास को गति देने में मदद करता है और जड़ों द्वारा पोषण ग्रहण करने में सहायता करता है। 4. उपजवर्धक एक कार्बनिक उत्प्रेरक, चेलेटिंग एजेंट, पोषक उत्पाद है जो पादप विकास तेज करता है। 5. उपजवर्धक पोषक तत्वों की एक विस्तृत श्रृंखला एवं कार्बनयुक्त नमी प्रतिधारण क्षमता के साथ बहुत उच्चचेतन एक्सचेंज क्षमता (सीईसी) वाला एक श्रेष्ठ व अप्रतिम उत्पाद है। 6. उपजवर्धक में उपलब्ध उच्चतम कार्बनिक अवयव फायदेमंद सूक्ष्म जीवों एवं उचित मृदा विन्यास के लिए आवश्यक और लाभकारक है। 7. उपजवर्धक त्वरित-घुलनशील ह्यूमिक एसिड युक्त है जो नमी अवधारण में सुधार, जड़ों के पूर्ण विकास और सूखे की स्थिति में सहायता करता है। 8. उपजवर्धक एक अत्यन्त प्रभावी मृदापोषक है जो लाभकारी बैक्टीरिया को बढ़ावा देकर मिट्टी में वांछनीय मृदा-विन्यास निर्मित करता है। 9. उपजवर्धक एक शक्तिशाली माइक्रोब प्रमोटर है। 10. उपजवर्धक पत्तियों में क्लोरोफिल की मात्रा बढ़ाकर प्रकाश संश्लेषण को गति देता है और पौधों के उपापचय को तेज करता है। 11. उपजवर्धक मिट्टी में जहरीले और रासायनिक उर्वरको के नमकीन अवशेषों को चेलेट करके मृदा प्रदूषण और विषक्तता को कम करता है। यह मिट्टी में जहरीले अवशेषों को अपघटित कर देता है। 12. उपजवर्धक अनुकूल मृदा पर्यावरण का निर्माण करके केचुओं की संख्या में वृद्धि और उनके कामकाज को बढ़ावा देता है। मिट्टी मे लाभप्रद कवक को बढ़ाता है । 13. उपजवर्धक मिट्टी में फायदेमंद बैक्टीरिया/सूक्ष्म जीवों के लिए सबसे अच्छा भोजन है। 14. उपजवर्धक मिट्टी में ऑक्सीजन संचरण और कार्बन के स्तर में सुधार तथा कार्बन नाइट्रोजन अनुपात एवं रसायन संतुलन को नियमित करता है। 15. उपजवर्धक मिट्टी की जल अवधारण क्षमता में सुधार कर मिट्टी को ढ़ीली, भुरभुरी, नरम, नम और उपजाऊ बनाता है। उपजवर्धक बेहतर Aggregation, Flocculation, जड़ विकास तथा पोषक तत्वों के अवशोषण को बढ़ावा देता है। 16. उपजवर्धक पौधों की जड़ों द्वारा उर्वरकों के कुशल उपयोग व अवशोषण के लिए पोषक तत्वों की उपलब्धता सुनिश्चित कराता है। उपजवर्धक अन्य फसल पोषक उत्पादों और उर्वरकों के प्रभाव में वृद्धि करता है। 17. उपजवर्धक फसल की पैदावार बढ़ाता है। मिट्टी में प्राकृतिक स्वपोषी उर्वरता प्रणाली को पुनः स्थापित करता है। 18. उपजवर्धक सूखा/ठंड की स्थिति में प्रतिरोध प्रदान करता है और फसलों में प्रतिकूल परिस्थितिरोधी क्षमता विकसित करता है। फसल को सूखे और पाले से बचाता है। 19. उपजवर्धक मृदा विन्यास ठीक करता है, मिट्टी की संरचना में सुधार एवं कार्बन अवयव को बढ़ाता है। 20. उपजवर्धक कोशिका विभाजन, पुष्पन, फलन और दाने बैठाने में मदद करता है। 21. उपजवर्धक उर्वरकों व कीटनाशकों के विषैले प्रभाव को कम करता है, जहरीले अवशेषों को अपघटित करके जल व मृदा प्रदूषण नियंत्रित करता है। 22. उपजवर्धक मिट्टी के पीएच मान को नियमित करता है और लॉक-अप से फास्फोरस को मुक्त करता है। 23. उपजवर्धक मृदा बैक्टीरिया-विशेष रुप से रेजोस्फीयर बैक्टीरिया को सक्रिय करता है जो कि जड़ प्रणाली के बेहतर विकास के लिए महत्वपूर्ण होते हैं तथा पौधों की वृद्धि तेज करने के लिए पोषक तत्वों को उपलब्ध कराते हैं। 24. उपजवर्धक पुष्पन एवं फलन में सुधार तथा फूलों और फलों को गिरने से रोकता है। उपज की मात्रा और गुणवत्ता में वृद्धि, उपज का आकार, रंग, स्वाद और पोषकता में वृद्धि करता है। फूलों में अर्क/इत्र तथा मेन्था में तेल की मात्रा में वृद्धि करता है। 25. उपजवर्धक कीटनाशक/खरपतवारनाशक के उपयोग से दुष्प्रभावित फसलों में सुधार करता है। विषाक्त उत्पादों के साइड इफेक्ट से फसल को बचाता और पुनर्जीवित करता है। 26. उपजवर्धक नाइट्रोजन को स्थिर करके नाइट्रोजन का पूर्ण उपयोग सुनिश्चित करता है तथा नाइट्रोजन के बहाव को रोकता है। 27. उपजवर्धक कृत्रिम रासायनिक उर्वरकों की आवश्यकता को 80% तक कम करता है।

उपजवर्धक™ के प्रयोग द्वारा उपज बढाने की विधि /टिप्स
– सभी नाइट्रोजन स्रोतों के साथ उपजवर्धक™ मिलाकर प्रयोग करें ताकि ह्यूमस की कमी को पूरा किया जा सके तथा कार्बन:नाइट्रोजन अनुपात को ठीक किया जा सके.
– उच्च ऑर्गेनिक कार्बन व ह्यूमिक युक्त उपजवर्धक™, ह्यूमस स्तर और कार्बन:नाइट्रोजन अनुपात को ठीक करने का अप्रतिम विकल्प है।
– सभी दानेदार उर्वरकों, खादों य़ा मिट्टी के साथ उपजवर्धक™ का मिश्रण/कोटिंग कर उनके प्रभाव को बढ़ाया जा सकता है।
– सभी दानेदार फॉस्फोरस युक्त खाद के साथ उपजवर्धक™ कोटिंग/मिश्रित करने से यह उनकी क्षमता को बढ़ाता है l आप पहली बार पूरे फसल चक्र तक फॉस्फेट उपलब्धता का अनुभव करेंगे।
– यूरिया और उपजवर्धक™ परिपूर्ण एवं प्रभावी योजक है l एक बार उपजवर्धक का प्रयोग करके देखिये आप इसके प्रशंसक हो जायेंगे l उपजवर्धक™ कोटेड यूरिया,  नीम कोटेड और सामान्य यूरिया से बहुत अधिक प्रभावी है तथा यूरिया के नकारात्मक प्रभाव को रोकने मे भी सक्षम है।
– मिट्टी में लाभकारी बैक्टीरिया की कमी है, जो उपजाऊ क्षमता और रोगों की रोकथाम में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। उपजवर्धक™ के नियोजित प्रयोग से  मिट्टी में मौजूदा फायदेमंद बैक्टीरिया और कवक को पूर्ण भोजन मिलेगा ज़िससे उनका बहुगुणन होगा और मिट्टी में सूक्ष्म जीवों के असंतुलन को दूर करने और मिट्टी मे ह्यूमस व उर्वराशक्ति बढाने में प्रभावी मदद मिलेगी।
– उपजवर्धक™ का प्रयोग कृत्रिम रासायनिक उर्वरकों की आवश्यकता को 80% तक कम कर देगा और उपज मे गुणात्मक व मात्रात्मक वृद्धि करेगा l  उपज की गुणवत्ता में सुधार कर उपज को ऑर्गेनिक बनायेगा l
error: Content is protected !!
WhatsApp us